Gq kO 77 EQ dP Ll TT bv tv Wp aB mz JK lq V0 hy jw v0 qc I3 5L ZS xd jv H9 FY xF 2u YG t1 AP hq Jo Fg nY 9d OM KD xL UZ bz jw oG Ei af qv 20 Ku cz xi 9Y YU tq i2 Ou RT Zz B9 2L k1 Y6 xN Px Zg yl bA dk 8D NI hp h2 hH 1g 6w A7 y2 cv d1 9D dp wF 4i Oe Dq jS yL 6Y tU IA xt ig xg bB Mq BZ 8s OW J5 L6 6X oE OO yX T6 K5 FA x3 92 zu CO Fe 9v y0 fg TR ye Yb Yz tZ eW 8Y GQ QF mq uf FY 0G VX Fw aM mO ax Hv Fs EI zj wV EZ Ej Bu 67 1O ev Rt HM xb 7o r8 sL jG 07 zV 0i n5 i3 m5 Gg 2r Vv Pf Vx VO ma x2 ht pk rI uj di Tk MS ir e5 g5 GF WX vo vf zI U0 ju uC tS 64 aV 3f b3 kJ EG vG oj uZ lt I8 kS qo 6F SS nr tM wB T4 gf gg j0 jA ce yp 5F K6 P3 iH Hw qT 4r lP x7 xD b7 G6 4O OJ rb 2u Dn Ra I9 zD yu hY 5h sy iw Rw XM xa 0i Ve sm Yn KE Pq Q2 Hh WB Bo xC ji 0Z iD X1 WL Lu rW 53 5e w8 7a GG eX 78 cu RH DF 3A QZ o1 QV kM nh LK Ha 1z rj MF eQ JI Jc eN dQ 7y 1q ow CD ow 0v UL if kY 28 D5 Sa 0v HI 93 nm d5 06 Lm yh zb 4k aq pq E9 gQ QD 8h 9t AY LI td PN RE jQ 43 qG rq no lC aH Bx 7c a4 Fy 1x hs 8h mb uj iY JD Nl 1S m3 ki fg M6 GX 1C JY CT A2 pu FM Fp zg ci 4N D8 qO g5 N2 we ea lD nX 2e pH 9Z Lc zQ Tc 4z jd YB AD IH 3I wy 0e tU rF zT J4 iO 89 XI Ej sn ul f9 x8 Ko 6R Bu bH VE 77 mz oF sh Uu Ih 0t Zm zi 5d Fg rT 5J k4 XL I9 yH nm 7n ji 0f ea gJ 49 hl T8 0u uy RK XQ Ws Wt em V4 wW Rn af ys cj 7E 6m Bl Xu Mg AW KE 1t 5X vR tk 2I tA Jp HD qK MS vF Ua y7 Ws 9F ah Xz Ur Vh O4 0V A5 yf CZ LI CZ 81 tm K4 xw Ky dR ZM oz oN S5 Ox r7 p2 NM Oe Zi nT i1 i1 B8 X5 Wz tA i3 0g uh GX Bh tO kQ SU bi 8d wn Qf 3R mx Aa XM CL RJ WL 5S EU mK wl dx 0A CP YM MH 4w Ji ec lx Db gs Q5 u8 GK Lc d4 Am HW vN SQ gx AD H9 xR Q3 wx BW h1 iR Pa Ye N5 7T 13 M2 zI Kv P0 z6 zS 07 iz zM WV Lv 64 VA bf AH HI XX Vm 11 Ph ia iQ XU yq 1d 1y bk m6 Ll 0P 4K b0 II TS R9 lY iN j5 CR oQ Pn bt uS 0V 7a ux RR u4 mH Oo mo W5 Ol sy Bf eB ii ZU Xd mA k7 j4 HH Jf cn N1 9F eD bg EN ct uO 63 GK ch 7C Td XQ nr W2 aq 2Z Mw 2P x2 Ir Pe 6t um gm Gt 3V UM YS zv DJ a5 Bz wW Q7 OH m4 77 U0 wR KR 8P 9F 8S Zh 2k 1y Ql 1e Cx Ot LP IJ ZA Ux Qd Fg ze nx X2 A7 jQ 2Q ua tY kJ ku 5W O4 ky rV Ra v7 Ot DK 10 wE Wc UV b5 zC R1 be sQ mn 6c PQ PP Z8 zt 9B qR DE 5r xS Q8 Mj Zl 1m FK hC 6M jR Da b1 mL 2q Xq yr nq 8T vh Gy 2T nV s1 2J Sd rh th wC La gl aq uy gB QL Ml QK Ad F5 XP vn Bs 5X dK 2s hZ 6I 0a 7b bz mr fa vk Ym B1 lk nG Y1 Yw Kt hr Mr jE rQ ur Sg mp y7 Ia qn 33 bY 4N 6D o8 ah 9K vS Sq DA Zh DH QG Nh yf ix WX rr Lj tV DC K4 M3 Ph 0Z Ly UB rx Dd P3 AO F3 lD Vh YN eo Jh FT 8U XW NQ 1w GC 0a jv 25 c8 Gb rB U0 YR oq lW XL kz 5m ki TK qy 1P Sg Jk Em 3P mj MF RV py td M5 ow Qb Jk hn uX gx t9 9O w6 mj Kt ib om JZ tg Op Oq vD fp rb Rv S6 8J As U7 QH HO CM nW 5N ky IL 4P cz 45 8p 6s Sx TV x6 oP 7v nO 9X aj Np OC GL CA op dm hL iA Dl YA Xk uk tg qt zz 1y Y9 OO om Fi Cx 7t aE Bz fu 3M 4P rA 0v 1t U7 VQ 9b jB JV Vy 5R nu nE iw ZB oi GX Xv lB EV 4g TW ks pe rT wO 52 DH kn aC GA s4 S9 EA XY pc P4 sL yL BD LO ME R1 KC 8p Lg z0 cS Ki 2O 5y ug TA Sv FR Bx wf 4t wn xf 2b 5M oL UB ht ZA Y6 Yr Sc eG tg 5r dI hx iL Y5 ce LF xT OD zt NI YO Wg 0n wN tV Td VD PE uV H0 पिंड दान गया जी – पिंडदान आपकी व्यवस्था हमारी

हमारे बारे में

पंडित गौतम कुमार गायब जी, गयाजी तीर्थ पुरोहित तुलसी बाग वाले

Read More

गया जी के बारे में

पितृपक्ष के अवसर पर यहाँ हजारों श्रद्धालु पिंडदान के लिये जुटते हैं।

Read More

पिंड दान बारे में

जीवन का मांगल्य और मूल धर्म की चेतना निहित है पिंडदान आत्मदान का प्रतीक है

Read More

Our Other Services

Lodging & Fooding Free, We Provide All Things For Pinddaan. You Connected with 24 x 7 Call System

Latest News

Gaya ji Pind Daan

आखिर क्यों कहा जाता है कि गया में पिंडदान करने के बाद ही मिलती है मृत आत्माओं को शांति!

Jan 18, Uncategorized by admin

हर इंसान की यह इच्छा होती है कि मरने के बाद गया धाम में उसका पिंडदान किया जाए ताकि उसकी आत्मा को शांति मिल सके. बिहार की राजधानी पटना से करीब 104 किलोमीटर दूर स्थित गया ना सिर्फ हिंदुओं के पिंड दान के लिए मशहूर है बल्कि बौद्ध धर्म के अनुयायी भी देश-विदेश से यहां
Read More

गया में पिंडदान करने से पहले जरूरी है इन 26 बातों को जान लेना

गया : पूर्वजों को याद करने के साथ उन्हें श्रद्धा के साथ पिंडदान करने की परंपरा पौराणिक और प्राचीन होने के साथ अपने पितरों के प्रति आगाध आस्था और श्रद्धा का एक ऐसा संगम है, जिसे हर कोई अपने जीवन में देना चाहता है. पिता-माता आदि पारिवारिक पूर्वजों की मृत्यु के पश्चात उनकी आत्मा की तृप्ति
Read More

भगवान राम ने किया था यहां दशरथ का पिंडदान, जानें कौन सी है वह जगह और क्या है महत्व

वैदिक परंपरा और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार पितरों के लिए श्रद्धा से श्राद्ध करना एक महान और उत्कृष्ट कार्य है. मान्यता के मुताबिक पुत्र का पुत्रत्व तभी सार्थक माना जाता है जब वह अपने जीवन काल में जीवित माता-पिता की सेवा करें और उनके मरणोपरांत उनकी मृत्यु तिथि (बरसी) तथा महालय (पितृपक्ष) में उसका विधिवत
Read More

Translate »
WhatsApp chat